कुरूक्षेत्र में विवाह पंजीकरण पर मार्गदर्शन

 

कुरुक्षेत्र में विवाह पंजीकरण एक कानूनी प्रक्रिया है जो कानून के तहत एक जोड़े के मिलन को आधिकारिक तौर पर दर्ज करती है। अपने सांस्कृतिक और धार्मिक महत्व के लिए मशहूर इस ऐतिहासिक शहर में शादी के बंधन में बंधे जोड़ों के लिए यह एक महत्वपूर्ण कदम है। अपनी शादी का पंजीकरण यह न केवल मिलन को वैध बनाता है बल्कि यह भी सुनिश्चित करता है कि एक जोड़े के रूप में आपके अधिकार कानून के तहत सुरक्षित हैं।

विवाह पंजीकरण के लिए पात्रता मानदंड

कुरुक्षेत्र में विवाह पंजीकृत करने के लिए, जोड़ों को कुछ पात्रता मानदंडों को पूरा करना होगा:

  1. आयु: दुल्हन की उम्र कम से कम 18 साल और दूल्हे की उम्र कम से कम 21 साल होनी चाहिए।
  2. सहमति: दोनों पक्षों को बिना किसी दबाव के शादी के लिए सहमति देनी चाहिए।
  3. वैवाहिक स्थिति: दोनों व्यक्ति अविवाहित होने चाहिए, या यदि पहले से विवाहित हैं, तो उनके पास कानूनी तलाक के दस्तावेज या विधवा/विधुर के मामले में जीवनसाथी का मृत्यु प्रमाण पत्र होना चाहिए।

आवश्यक दस्तावेज़

विवाह पंजीकरण के लिए निम्नलिखित दस्तावेज़ आवश्यक हैं:

1. आयु और पहचान का प्रमाण

पहचान प्रमाण / आईडी प्रमाण: (पहचान प्रमाण पत्र /डीएलएम फिल्म)

  • पैन कार्ड
  • ड्राइविंग लाइसेंस
  • पासपोर्ट (इनमें से कोई एक)

पता प्रमाण: (पता प्रमाण पत्र)

  • आधार कार्ड
  • किराया समझौता
  • वोटर आई कार्ड
  • गैस का बिल
  • बिजली बिल (इनमें से कोई एक)

जन्म प्रमाण:(जन्म प्रमाण पत्र)

  • कक्षा 10 की मार्कशीट या जन्म प्रमाण पत्र

तलाक का फरमान:(तलाक वकील)

पिछले रिश्ते के मामले में, यदि पिछले साझेदारों ने तलाक ले लिया है, तो उन्हें शादी के लिए तलाक की डिक्री जमा करनी होगी।

मृत्यु प्रमाण पत्र:(मृत्यु प्रमाण पत्र)

यह तभी लागू होता है जब पिछले रिश्ते में किसी एक साथी की मृत्यु हो गई हो। जीवित साथी को मृत पति या पत्नी का मृत्यु प्रमाण पत्र जमा करना होगा।

तस्वीरें:

  • पुरुष और महिला दोनों भागीदारों की 6 पासपोर्ट आकार की तस्वीरें

अतिरिक्त दस्तावेज़

1. शपथ पत्र

  • वैवाहिक स्थिति का शपथ पत्र: प्रत्येक पक्ष को अपनी वैवाहिक स्थिति (एकल, तलाकशुदा, विधवा) बताते हुए एक हलफनामा प्रस्तुत करना होगा।

2. पासपोर्ट साइज फोटो

  • हाल की तस्वीरें: दोनों पक्षों की पासपोर्ट आकार की तस्वीरों का एक सेट आवश्यक है।

3. गवाह दस्तावेज़ीकरण

पहचान प्रमाण (आईडी प्रमाण):

  • पैन कार्ड
  • ड्राइविंग लाइसेंस
  • पासपोर्ट (इनमें से कोई एक)

निवास प्रमाण पत्र:

  • आधार कार्ड
  • किराया समझौता
  • वोटर आई कार्ड
  • गैस का बिल
  • बिजली बिल (इनमें से कोई एक)

तस्वीरें:

  • प्रत्येक गवाह के लिए 2 तस्वीरें

कुरूक्षेत्र में पंजीकरण की चरण-दर-चरण प्रक्रिया

ऑनलाइन आवेदन

1. आधिकारिक वेबसाइट पर जाएं

कुरूक्षेत्र में विवाह पंजीकरण के लिए नामित आधिकारिक वेबसाइट पर जाएँ।

2. आवेदन भरें

दोनों पति-पत्नी के सटीक विवरण के साथ आवेदन पत्र पूरा करें।

3. दस्तावेज़ अपलोड करें

आवश्यक दस्तावेजों को स्कैन करके अपलोड करें।

ऑफलाइन प्रक्रिया

1. रजिस्ट्रार कार्यालय पर जाएँ

एक अपॉइंटमेंट शेड्यूल करें और कुरूक्षेत्र में विवाह रजिस्ट्रार कार्यालय में जाएँ।

2. दस्तावेज़ जमा करें

सत्यापन के लिए सभी आवश्यक मूल दस्तावेज़ प्रदान करें।

3. सत्यापन एवं पंजीकरण

दस्तावेज़ सत्यापन के बाद, विवाह पंजीकृत किया जाएगा, और एक प्रमाण पत्र जारी किया जाएगा।

कुरूक्षेत्र में विदेशियों के लिए कोर्ट मैरिज प्रक्रिया

के लिए कोर्ट मैरिज की प्रक्रिया कुरूक्षेत्र में विदेशी भारतीय नागरिकों के लिए समान पात्रता मानदंड का पालन करता है। विदेशियों को आवश्यक दस्तावेज़ उपलब्ध कराने होंगे, जिनमें शामिल हैं:

  1. कुरूक्षेत्र का पता और निवास प्रमाण।
  2. पासपोर्ट.
  3. आयु प्रमाण पत्र या जन्म प्रमाण पत्र।
  4. वीजा.
  5. वैवाहिक स्थिति प्रमाण.

कोर्ट मैरिज को पूरा होने में आमतौर पर लगभग 30-40 दिन लगते हैं। हालाँकि, विवाह पंजीकरण प्रक्रिया केवल 2-3 घंटों में पूरी की जा सकती है।

उपरोक्त दस्तावेजों के अलावा, विदेशियों को यह भी प्रदान करना पड़ सकता है:

  1. अनापत्ति प्रमाण पत्र (एनओसी) उनके संबंधित दूतावास से।

यदि किसी भी साथी की पहले से शादी हो चुकी है, तो निम्नलिखित दस्तावेजों की आवश्यकता हो सकती है:

  1. पूर्व पति या पत्नी का मृत्यु प्रमाण पत्र, यदि लागू हो।
  2. यदि पिछली शादी तलाक में समाप्त हो गई तो तलाक प्रमाण पत्र।

कुरुक्षेत्र में कोर्ट मैरिज की योजना बना रहे विदेशियों के लिए यह सुनिश्चित करना आवश्यक है कि विवाह और पंजीकरण प्रक्रिया को सुचारू रूप से आगे बढ़ाने के लिए उनके पास सभी आवश्यक दस्तावेज हों।

कुरूक्षेत्र में माता-पिता की सहमति के बिना विवाह: कानूनी विकल्प और प्रक्रियाएं

हाँ, माता-पिता की सहमति के बिना विवाह करना वास्तव में संभव है। जब दोनों साथी एक ही धर्म के हों, तो वे ऐसे विवाह समारोह का विकल्प चुन सकते हैं जो उनकी धार्मिक परंपराओं के अनुरूप हो। इन विवाहों को विभिन्न अधिनियमों के तहत कानूनी रूप से पंजीकृत भी किया जा सकता है।

  1. माता-पिता की सहमति के बिना विवाह: भारत सहित कई देशों में माता-पिता की सहमति के बिना विवाह की अनुमति है। यह ध्यान रखना जरूरी है कि सहमति देने वाले वयस्कों को अपनी पसंद के अनुसार शादी करने का अधिकार है।
  2. धार्मिक परंपरा: यदि दोनों साथी एक ही धर्म के हैं, तो वे अपनी धार्मिक परंपराओं के अनुसार विवाह समारोह करना चुन सकते हैं। इससे उन्हें विवाह समारोह में अपनी आस्था के लिए महत्वपूर्ण अनुष्ठानों और रीति-रिवाजों को शामिल करने की अनुमति मिलती है।
  3. कानूनी पंजीकरण: विवाह की वैधता सुनिश्चित करने और विवाह के साथ मिलने वाले कानूनी अधिकारों और लाभों का आनंद लेने के लिए विवाह को कानूनी रूप से पंजीकृत करना महत्वपूर्ण है। पंजीकरण विवाह के अस्तित्व के प्रमाण के रूप में भी कार्य करता है।
  4. विभिन्न अधिनियम: भारत में, विभिन्न अधिनियम विवाहों के पंजीकरण को नियंत्रित करते हैं, जैसे विशेष विवाह अधिनियम, हिंदू विवाह अधिनियम, मुस्लिम व्यक्तिगत कानून, भारतीय ईसाई विवाह अधिनियम और अन्य। जोड़े की धार्मिक पृष्ठभूमि के आधार पर, वे अपनी शादी को पंजीकृत करने के लिए उचित अधिनियम चुन सकते हैं।

निष्कर्ष

कुरूक्षेत्र में अपनी शादी का पंजीकरण कराना एक सीधी प्रक्रिया है जो आपके वैवाहिक मिलन को कानूनी मान्यता और सुरक्षा प्रदान करती है। पात्रता मानदंडों को समझकर, आवश्यक दस्तावेज तैयार करके और चरण-दर-चरण प्रक्रिया का पालन करके, जोड़े एक सहज और परेशानी मुक्त पंजीकरण अनुभव सुनिश्चित कर सकते हैं।

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न (अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न)

1. विवाह पंजीकरण क्या है?

उत्तर: विवाह पंजीकरण सरकार के साथ विवाह को रिकॉर्ड करने की कानूनी प्रक्रिया है, जिससे इसे कानून के तहत आधिकारिक तौर पर मान्यता मिल जाती है।

2. विवाह पंजीकरण क्यों महत्वपूर्ण है?

उत्तर: यह वैवाहिक संबंध को वैध बनाता है, कानूनी सुरक्षा सुनिश्चित करता है, और विवाह के बाद विभिन्न दस्तावेज़ीकरण प्रक्रियाओं के लिए आवश्यक है।

3. कुरूक्षेत्र में विवाह पंजीकरण के लिए न्यूनतम आयु क्या है?

उत्तर: दुल्हन की उम्र कम से कम 18 साल और दूल्हे की उम्र कम से कम 21 साल होनी चाहिए।

4. क्या विवाह समारोह का पंजीकरण आवश्यक है?

उत्तर: हाँ, विवाह समारोह आवश्यक है क्योंकि आपको पंजीकरण के लिए विवाह का प्रमाण देना होगा।

5. क्या मैं कुरूक्षेत्र में अपनी शादी का ऑनलाइन पंजीकरण करा सकता हूँ?

उत्तर: आप प्रक्रिया ऑनलाइन शुरू कर सकते हैं लेकिन सत्यापन और पूरा करने के लिए आपको व्यक्तिगत रूप से रजिस्ट्रार के कार्यालय में जाना होगा।

6. विवाह पंजीकरण के लिए कौन से दस्तावेज़ आवश्यक हैं?

उत्तर: आवश्यक दस्तावेज़ों में आम तौर पर उम्र और पहचान का प्रमाण, निवास प्रमाण, विवाह प्रमाण और गवाह आईडी शामिल होते हैं।

7. विवाह पंजीकरण प्रक्रिया में कितना समय लगता है?

उत्तर: आवेदन से लेकर विवाह प्रमाणपत्र प्राप्त होने तक 30 दिन तक का समय लग सकता है।

8. क्या पंजीकरण के लिए गवाहों की उपस्थिति अनिवार्य है?

उत्तर: हाँ, प्रत्येक पक्ष से दो गवाहों की उपस्थिति अनिवार्य है।

9. क्या विदेशी लोग कुरुक्षेत्र में अपनी शादी का पंजीकरण करा सकते हैं?

उत्तर: हाँ, लेकिन उन्हें विदेशी विवाह अधिनियम का पालन करना होगा और प्रासंगिक दस्तावेज़ उपलब्ध कराने होंगे।

10. यदि एक साथी भारतीय नागरिक नहीं है तो क्या होगा?

उत्तर: विवाह अभी भी पंजीकृत किया जा सकता है, लेकिन वैध वीज़ा और पासपोर्ट जैसे अतिरिक्त दस्तावेज़ की आवश्यकता होगी।

11. क्या विवाह पंजीकरण के लिए कोई शुल्क है?

उत्तर: हां, एक मामूली शुल्क है, जो इस पर निर्भर करता है कि आवेदन हिंदू विवाह अधिनियम या विशेष विवाह अधिनियम के तहत है या नहीं।

12. क्या मैं वर्षों पहले हुई शादी का पंजीकरण करा सकता हूँ?

उत्तर: हां, आप पुरानी शादी का पंजीकरण करा सकते हैं, बशर्ते आपके पास आवश्यक दस्तावेज हों।

13. यदि हमारा विवाह निमंत्रण कार्ड खो जाए तो क्या होगा?

उत्तर: ऐसे मामलों में आप एक हलफनामा या शादी का कोई अन्य सबूत जमा कर सकते हैं।

14. क्या विवाह पंजीकरण के लिए मेडिकल परीक्षण आवश्यक है?

उत्तर: नहीं, विवाह पंजीकरण के लिए चिकित्सा परीक्षण की आवश्यकता नहीं है।

15. यदि मेरे पास जन्म प्रमाण पत्र नहीं है तो क्या मैं अपनी शादी का पंजीकरण करा सकता हूँ?

उत्तर: हां, आप 10वीं कक्षा का प्रमाणपत्र या पासपोर्ट जैसे अन्य आयु-प्रमाण दस्तावेज़ों का उपयोग कर सकते हैं।

16. हिंदू विवाह अधिनियम और विशेष विवाह अधिनियम के तहत विवाह पंजीकरण के बीच क्या अंतर है?

उत्तर: हिंदू विवाह अधिनियम उन जोड़ों के लिए है जहां दोनों व्यक्ति हिंदू हैं, जबकि विशेष विवाह अधिनियम अंतर-धार्मिक या अंतर-जातीय विवाह के लिए है।

17. मुझे कैसे पता चलेगा कि मेरा विवाह किस अधिनियम के अंतर्गत आता है?

उत्तर: यह आपकी धार्मिक पृष्ठभूमि पर निर्भर करता है। रजिस्ट्रार इस पर आपका मार्गदर्शन कर सकता है।

18. क्या समलैंगिक जोड़े कुरूक्षेत्र में अपनी शादी का पंजीकरण करा सकते हैं?

उत्तर: अप्रैल 2023 में मेरे आखिरी अपडेट के अनुसार, भारत में समलैंगिक विवाह को कानूनी रूप से मान्यता नहीं दी गई है।

19. यदि एक साथी तलाकशुदा हो तो क्या होगा?

उत्तर: उन्हें आवेदन प्रक्रिया के दौरान तलाक की डिक्री प्रदान करनी होगी।

20. क्या विवाह पंजीकरण के लिए वकील की आवश्यकता है?

उत्तर: नहीं, वकील आवश्यक नहीं है, लेकिन आप मार्गदर्शन के लिए किसी वकील से परामर्श ले सकते हैं।

21. यदि मेरा जीवनसाथी विधवा/विधुर है तो क्या होगा?

उत्तर: उन्हें अपने मृत जीवनसाथी का मृत्यु प्रमाण पत्र प्रदान करना होगा।

22. क्या मैं विवाह पंजीकरण के माध्यम से अपना नाम बदल सकता हूँ?

उत्तर: हाँ, आप पंजीकरण प्रक्रिया के दौरान नाम परिवर्तन के लिए आवेदन कर सकते हैं।

23. यदि विवाह प्रमाणपत्र में त्रुटियाँ हों तो क्या होगा?

उत्तर: सुधार के लिए आपको तुरंत रजिस्ट्रार कार्यालय से संपर्क करना चाहिए।

24. क्या विवाह प्रमाणपत्र तुरंत जारी किया जाता है?

उत्तर: नहीं, पंजीकरण प्रक्रिया के बाद आमतौर पर कुछ दिनों से लेकर कुछ सप्ताह तक का समय लगता है।

25. यदि मेरी शादी कहीं और हुई है तो क्या मैं अपनी शादी का पंजीकरण कुरुक्षेत्र में करा सकता हूँ?

उत्तर: हाँ, यदि आप या आपका जीवनसाथी कुरूक्षेत्र में रहते हैं।

26. यदि मेरे पास कुरूक्षेत्र का आवासीय प्रमाण नहीं है तो क्या होगा?

उत्तर: आप उस स्थान के आवासीय प्रमाण का उपयोग कर सकते हैं जहां विवाह हुआ था या जहां पति-पत्नी में से कोई एक रहता है।

27. क्या एनआरआई विवाहों के लिए कोई विशेष विचार हैं?

उत्तर: एनआरआई को पासपोर्ट प्रतियां और संभवतः अनापत्ति प्रमाण पत्र जैसे अतिरिक्त दस्तावेज प्रदान करने होंगे।

28. क्या विवाह पंजीकरण सप्ताहांत पर किया जा सकता है?

उत्तर: यह कुरुक्षेत्र में रजिस्ट्रार कार्यालय के कार्य दिवसों पर निर्भर करता है।

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

VISHAL SAINI ADVOCATE